Cover

ब्रिटेन में कोरोना की नई स्‍ट्रेन से हड़कंप, भारत में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की आपात बैठक, दूसरे मुल्‍कों ने फ्लाइटों के आने पर लगाई रोक

नई दिल्‍ली। ब्रिटेन में कोरोना वायरस का एक बदला हुआ खतरनाक रूप सामने आया है। इससे संक्रमण तेजी से फैल रहा है। वायरस के इस नए स्वरूप पर चर्चा करने के लिए भारत में स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने संयुक्त निगरानी समूह (जेएमजी) की सोमवार को आपात बैठक बुलाई है। एक सूत्र ने बताया कि स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक की अगुआई में यह बैठक होगी। भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ. रोडेरिको एच ओफ्रिन भी बैठक में शामिल हो सकते हैं।  डॉ. रोडेरिको एच ओफ्रिन संयुक्त निगरानी समूह यानी जेएमजी के सदस्य भी हैं।

ब्रिटेन के कई इलाकों में लगा लॉकडाउन 

समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन में नए वायरस के चलते तेजी से संक्रमण फैल रहा है। इसको देखते हुए लंदन और इंग्लैंड के कुछ इलाकों में रविवार से सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है। इसके चलते एकबार फि‍र लाखों लोग घरों के भीतर रहने को मजबूर हो गए हैं। यही नहीं आलम यह है कि गैर-जरूरी वस्तुओं की दुकानें और प्रतिष्ठान भी बंद कर दिए गए हैं।

कई देशों ने फ्लाइटों के आने पर लगाई रोक 

माना जा रहा है कि कोरोना वायरस का नया प्रकार देश में संक्रमण को तेजी से फैलाने के लिए जिम्मेदार है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बीते दिनों कहा था कि ऐसा लग रहा है कि कोरोना वायरस का नया रूप दुनिया के सामने आ गया है जो पहले के वायरस के मुकाबले 70 फीसद ज्‍यादा तेजी से फैलता है। कोरोना की इस नई स्‍ट्रेन से दहशत का आलम यह है कि यूरोप के कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली विमान सेवाओं पर भी पाबंदी लगा दी है।

वीयूआइ 202012/01 दिया गया नाम 

समाचार एजेंसी एपी ने अपनी रिपोर्ट के मुताबिक, नीदरलैंड का कहना है कि उसने ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर रोक इसलिए लगाई है ताकि इसका प्रकोप उसकी सीमा तक नहीं पहुंचे। कोरोना के इस नए प्रकार को लेकर वैज्ञानिक भी अध्‍ययन में जुट गए हैं। वैज्ञानिक यह पता लगा रहे हैं कि हाल में ही कोरोना की लहर इस नए स्‍ट्रेन से जुड़ी तो नहीं है। वैज्ञानिकों ने वायरस के इस नए प्रकार को ‘वीयूआइ 202012/01’ नाम दिया है।

क्रिसमस कार्यक्रम भी रद 

समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने नए सख्त प्रतिबंधों करते हुए कहा कि पांच दिवसीय प्रस्तावित क्रिसमस बबल कार्यक्रम भी रद रहेगा। इससे पहले पहले क्रिसमस कार्यक्रमों के लिए प्रतिबंधों में ढील देने का फैसला किया गया था। अब प्रधानमंत्री जॉनसन ने प्रतिबंधों को और सख्त कर दिया है। दक्षिणी इंग्लैंड के कई इलाके सख्‍त प्रतिबंधों की श्रेणी में रखे गए हैं।

डब्‍यूएचओ को भी दी गई जानकारी 

ब्रिटेन में लॉकडाउन वाले क्षेत्रों में लोगों को अपने घर के बाहर किसी दूसरे व्‍यक्ति से मिलने-जुलने पर रोक लगाई गई है। क्रिसमस के दौरान भी यह रोक प्रभावी रहेगी। वहीं इंग्लैंड के मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रोफेसर क्रिस विट्टी ने बताया कि कोरोना की नई स्‍ट्रेन को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्‍यूएचओ को भी अलर्ट कर दिया गया है। वायरस के नए प्रकार के बारे में और जानकारियां जुटाई जा रही हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890