Cover

बालाघाट ज‍िले में नक्सलियों से निपटने के ल‍िए जंगल में खास सुरक्षा इंतजाम की योजना

बालाघाट। 90 के दशक से जिले के जंगलों में आउट सोर्स की कमी का फायदा उठाकर अपनी ताकत बढ़ा रहे नक्सलियों से निपटने के लिए अब तीन राज्यों की सीमा पर षट्कोणीय सुरक्षा का घेरा नजर आएगा। इसके लिए पुलिस खास सुरक्षा इंतजाम करने की योजना बना रही है। महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ राज्यों की सीमा पर मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में छह चौकियों में सुरक्षा का मजबूत घेरा दिखेगा। नक्सलियों से निपटने जंगलों में कसावट की तैयारी की जा रही है। नक्सलियों से निपटने का अब तक का यह अनूठा एक्शन प्लान है। तीन राज्यों की सीमा पर षट्कोणिय घेरा जिले का ही नहीं कान्हा नेशनल पार्क का भी सुरक्षा कवच बनेगा।

छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र की सीमा से अब नक्सली सीधे जिले की सीमा में प्रवेश नहीं कर पाएंगे। बिना वर्दी जिले की सीमा में घुसने वाले नक्सलियों की पहचान के लिए भी पुलिस एक्शन मोड में आकर सीमावर्ती चौकियों में मुखबिरों को तैनात करेगी,जो नक्सलियों की सूचना के साथ ही उनकी शिनाख्त भी करा सकेंगे।

नक्सलियों की राह में मौत का जाल

लगातार सीमा पर अपनी मौज्ाूदगी बढ़ा रहे नक्सलियों का रास्ता रोकने के लिए सुरक्षा का खास घेरा बनाने के साथ ही पुलिस ने कुछ नए रास्तों में एंबुश प्लान किया है। महाराष्ट्र- छत्तीसगढ़ की सीमा मध्य प्रदेश की बालाघाट व मंडला जिले में फोर्स बढ़ाने कवायद की जा रही है।

दक्षिण बैहर और लांजी में बढ़ेगी कसावट

जिले के सायर-संदूका, टेमनी, कोरका-बोंदारी, मलकुआ, चिलकोना, राशिमेटा, कोदापार, पितकोना, चौरिया, चिलौरा, कोसुम्बहरा, धीरी, मुरुम, मलायदा, सीतापाला,कटेमा,कट्टीपार ये दूरस्थ इलाके 90 के दशक से नक्सली गिरफ्त में रहे हैं। वहीं नए स्थान के लिए दमोह, सालेटेकरी, मछुरदा व छग से लगे मंडई,चिल्पी में विस्तार दलम के साथ नक्सलियों ने अपनी सक्रियता बढ़ाई है। दक्षिण बैहर और लांजी के इलाके में सुरक्षा में कसावट लाने के साथ ही छग में विस्तार दलम का विस्तार रोकने प्रयास किए जा रहे हैं।

फोकस पॉइंट

– तीन राज्यों की सीमा पर होगा सुरक्षा का षटकोणीय घेरा।

– छह चौकियों में तैनात होंगे जवान।

– करीब छह सौ जवान रखेंगे सीमा पर पैनी नजर।

– सुरक्षा के षट्कोणीय घेरे से कान्हा में पर्यटन पर बढ़ेगी सुरक्षा।

– सीमा पर बिना वर्दी घुसने वाले नक्सलियों की शिनाख्त की भी होगी खास व्यवस्था।

इनका कहना है

महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ की सीमा पर मध्य प्रदेश के बालाघाट-मंडला जिलों में छह चौकियों में षटकोणीय सुरक्षा का घेरा नजर आएगा। पुलिस ने अपने एक्शन प्लान में खास व्यूह की रचना की है। जिसे तोड़ पाना नक्सलियों के लिए आसान नहीं होगा। मध्य प्रदेश का यह अब तक अनूठा एक्शन प्लान है,जिसमें करीब छह सौ जवान सीमा पर पैनी नजर बनाए रखेंगे।

– अभिषेक तिवारी,एसपी बालाघाट

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890