Cover

अदालतों के हस्तक्षेप से कम हो जाएगा मध्यस्थता का महत्व : सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। अगर अदालतों को कानून के दायरे से बाहर जाकर मध्यस्थता प्रक्रिया में हस्तक्षेप की अनुमति दी गई तो ऐसी प्रक्रियाओं का महत्व कम हो जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को यह टिप्पणी की।

शीर्ष अदालत ने कहा कि हाई कोर्ट को उन दुर्लभ मामलों में अपवाद के तौर पर ही संविधान के अनुच्छेद 227 के तहत प्राप्त असाधारण रिट पावर का उपयोग करना चाहिए, जिनमें मध्यस्थता कानून द्वारा निस्तारित विवाद में एक पक्ष के पास कोई विकल्प न बचा हो। साथ ही जहां स्पष्ट तौर पर दूसरे पक्ष की दुर्भावना दिख रही हो।

जस्टिस एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने गुजरात की कंपनी भावेन कंस्ट्रक्शंस द्वारा हाई कोर्ट के 2012 के एक आदेश के खिलाफ दायर अपील पर सुनवाई की। गुजरात हाई कोर्ट ने अपनी रिट पावर का इस्तेमाल करते हुए सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड के खिलाफ उपरोक्त कंपनी द्वारा शुरू की गई मध्यस्थता कार्यवाही में हस्तक्षेप किया था। इस मामले में भुगतान एवं ईट की आपूर्ति को लेकर विवाद हो गया था। शीर्ष अदालत ने दोनों पक्षों के बीच मध्यस्थता कार्यवाही में हस्तक्षेप के हाई कोर्ट के आदेश को रद कर दिया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890