Cover

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने साधा ममता पर निशाना, कहा- पश्चिम बंगाल में जंगलराज

केंद्रीय संस्कृति व पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने चाय बागानों के श्रमिकों की समस्याओं को लेकर बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को जमकर आड़े हाथों लेते हुए कहा कि उन्होंने चाय श्रमिकों को उनकी जमीनों के पट्टे का मामला भी उठाया। पटेल ने दार्जिलिंग में सांस्कृतिक गतिविधियों के संचालन को लेकर राज्य सरकार का ध्यान खींचा। पटेल दार्जिलिंग में अपने प्रवास के दौरान मीडिया से बात कर रहे थे।

चाय बागान श्रमिकों की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ
केंद्रीय संस्कृति व पर्यटन मंत्री  प्रहलाद सिंह पटेल ने आरोप लगाया कि बंगाल की सरकार को सामाजिक सरोकारों से कोई लेना देना नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रकृति ने दार्जिलिंग को सब कुछ दिया है, लेकिन यह क्षेत्र राज्य सरकार की उपेक्षा का शिकार हुआ है। उन्होंने बताया कि करीब 10 साल पहले भारतीय जनता मजदूर महासंघ के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए वे सिलीगुड़ी आए थे। तब से अब तक चाय बागानों के लोगों की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है। उन्होंने राज्य सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि सालों से चाय बागानों के लोगों की समस्या जस की तस है, लोगों को ज़मीनों का पट्टा तक नहीं मिला है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार ने बागान कर्मचारियों के लिए मिनिमम वेज बोर्ड लागू कर दिया है, जो कि जल्दी ही लागू हो जाएगा।

अबकी बार 200 पार
पटेल ने कहा कि हमारा घोषणा पत्र, हमारा संकल्प पत्र होता है। हमारा कोई भी काम कार्यकाल से बाहर नहीं जाता। हम जो भी वादे करते हैं कार्यकाल के भीतर ही पूरा करते हैं। उन्होंने कहा कि हम गोरखा मामले का स्थायी राजनैतिक समाधान खोजेंगे। एक सवाल के जवाब पर उन्होंने कहा कि यहां के सांसद के अनुरोध पर हमने 3 दिनों में नेपाली रिसर्च स्कॉलरों को उनकी स्कॉलरशिप का पैसा दिलाया, तब तक तो चुनाव की कोई बात भी नहीं थी। पटेल ने कहा कि अंग्रेजों के समय से यहा कई प्रकार के टैक्स लिए जाते हैं लेकिन सुविधाएं कुछ भी नहीं मिल पाती। उन्होंने आरोप लगाया कि बंगाल में विरोधी सांसद, अपनी सांसद निधि का पैसा भी यहां लोगों के हित में खर्च नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि बंगाल की जनता परिवर्तन चाहती है जो होकर रहेगा।

बंगाल सरकार संस्कृति पर ध्यान दे-पटेल
केंद्रीय संस्कृति व पर्यटन मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने कहा कि दार्जिलिंग में सांस्कृतिक गतिविधियों के संचालन के लिए कोई मंच नहीं है। उन्होंने राज्य सरकार से टैगोर कल्चर स्पेस जैसी जगह उपलब्ध कराने की मांग करते हुए कहा कि राज्य सरकार ज़मीनें उपलब्ध कराए तो उनका मंत्रालय कला के क्षेत्र में यहां काफी काम कर सकता है। उन्होंने कहा कि बंगाल का कल्चर काफी रिच है लेकिन यहां ऐसी कोई एकेडमी नहीं है जिसके माध्यम से यहां के कलाकार यहां की संस्कृति के बारे में जान पाएं, उसे और उन्नत कर पाएं।

पटेल ने कहा कि देश-विदेश के पर्यटक जब किसी क्षेत्र में आते हैं तो वो सिर्फ सुंदरता नहीं देखना चाहते, बल्कि सांस्कृतिक धरोहरों के बारे में जानना चाहते हैं, जिसकी यहां कोई व्यवस्था नहीं है। उन्होंने कहा कि बंगाल में उनकी पार्टी की सरकार आने पर यहां काफी काम होगा। इससे पहले पटेल ने महाकाल मंदिर में पूजा अर्चना की और वॉर मेमोरियल में जाकर शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। पत्रकार वार्ता में उनके साथ दार्जिलिंग सांसद व भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजू बिष्ट मौजूद थे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890