Cover

तृणमूल कांग्रेस के शासन में राजनीतिक हिंसा: पश्चिम बंगाल में भाजपा विधायक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

पश्चिम बंगाल के उत्तर दिनाजपुर जिले में भाजपा विधायक देबेंद्रनाथ जिस तरह एक दुकान के बाहर फांसी के फंदे पर लटके मिले उससे यही अधिक लगता है कि उनकी हत्या की गई है। इस आशंका को इससे भी बल मिल रहा है कि उनका शव एक सार्वजनिक जगह पर लटकता मिला। हालांकि उनके पास से एक कथित पत्र मिलने की बात कही जा रही है जिसमें उन्होंने अपनी मौत के लिए कुछ लोगों को जिम्मेदार बताया है, लेकिन उसकी सत्यता पर यकीन करना कठिन है। एक तो कोई भी सार्वजनिक तौर पर फांसी लगाकर आत्महत्या नहीं करता और दूसरे यह समझना कठिन है कि आखिर कोई विधायक इस तरह अपनी जान क्यों देगा? इसमें संदेह है कि बंगाल पुलिस की ओर से की जाने वाली जांच तह तक जाने में सफल होगी।

यदि विधायक की मौत की सीबीआइ जांच की मांग हो रही है तो उसके पीछे कुछ ठोस आधार दिखते हैं। एक विधायक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत बंगाल की उस खूनी राजनीति का ही स्मरण करा रही है जिसके तहत विरोधी दलों के नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों पर हमले होना आम बात हो गई है। बंगाल राजनीतिक हिंसा के लिए हमेशा से कुख्यात रहा है। वाम दलों के लंबे शासन में यहां राजनीतिक हिंसा को खूब बढ़ावा मिला, क्योंकि वाम विचारधारा विरोधियों से निपटने के लिए उनका खात्मा करना भी जायज मानती है।

माना जा रहा था कि तृणमूल कांग्रेस का शासन राजनीतिक हिंसा के खूनी दौर पर लगाम लगाएगा और बंगाल में सचमुच परिवर्तन लाएगा, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने वाम दलों के ही हिंसक तौर-तरीके अपना लिए। वास्तव में तृणमूल कांग्रेस ने खुद को एक तरह से वाम दलों में तब्दील कर लिया है। हालात इसलिए और खराब हो गए हैं, क्योंकि राजनीतिक हिंसा में लिप्त तत्वों को पुलिस और प्रशासन की ओर से भी संरक्षण मिलता है। हालांकि बंगाल में विधानसभा चुनाव अगले साल हैं, लेकिन हिंसक राजनीतिक टकराव का सिलसिला यही बताता है कि हिंसा-हत्या के सहारे चुनाव जीतने की तैयारी शुरू हो गई है।

बंगाल में शायद ही कोई सप्ताह ऐसा गुजरता हो जब कहीं न कहीं राजनीतिक हिंसा की वारदात न होती हो। बीते सप्ताह ही तृणमूल कांग्रेस और एक वामपंथी संगठन के बीच झड़प में दोनों पक्षों के एक-एक नेता की जान गई। इससे पहले एक ही दिन अलग-अलग घटनाओं में पांच लोग मारे गए थे। अगर यह सिलसिला थमा नहीं तो बंगाल विधानसभा चुनाव तक रक्तरंजित हो जाएगा। दुर्भाग्य से इस खूनी सिलसिले को थामना आसान नहीं, क्योंकि राजनीति, पुलिस और प्रशासन से जुड़े आवश्यक सुधार आगे बढ़ने का नाम नहीं ले रहे हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890