Cover

रिश्ते की डोर खींचने पर कांग्रेस व सचिन पायलट में शह और मात का आखिरी दौर

नई दिल्ली। गहलोत सरकार का खतरा टलने के बावजूद राजस्थान कांग्रेस के जारी संग्राम में ‘साम-दाम-दंड-भेद’ के सहारे एक दूसरे को मात देने की सियासत चरम पर पहुंच गई है। कांग्रेस ने सचिन पायलट और उनके समर्थकों पर नोटिस के जरिये कार्रवाई का डंडा चलाया तो पायलट ने भी सीधे शब्दों में भाजपा में नहीं जाने का ऐलान कर इस डंडे की धार कमजोर कर दी। तब कांग्रेस ने भी वापस गेंद अपने बागी नेता के पाले में डालते हुए साफ संदेश दिया कि भाजपा के सियासी जाल से निकल कर पायलट और उनके समर्थक घर लौट आते हैं तो उनके लिए पार्टी के दरवाजे खुले हैं।

राजनीतिक-कानूनी पहलुओं को तौल रहे हैं पायलट 

सियासत बचाने की इस जंग में पायलट भी अपने पत्ते सधे तौर पर खेलते हुए अलग पार्टी बनाने से लेकर कांग्रेस में वापस लौटने के राजनीतिक-कानूनी पहलुओं को तौल रहे हैं। कांग्रेस की राजनीति के लिए सचिन पायलट की मौजूदा दौर में जरूरत और अहमियत को देखते हुए पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने सभी विधायकों के खिलाफ नोटिस के तौर पर चलाए गए अनुशासन के डंडे के बाद भी पायलट को वापस लौट आने का आखिरी निजी संदेश भेजा है।

कांग्रेस ने पायलट के लिए अब भी दरवाजा खुल रखने की बात कही

पार्टी के उच्चपदस्थ सूत्रों ने कहा कि हाईकमान की ओर से अंतिम कोशिश के तहत पायलट को लौट आने पर उनकी राजनीतिक प्रतिष्ठा बहाल करने का भी संकेत दिया गया है। साफ है कि पायलट को कांग्रेस में रहना है या बाहर जाना है, इसके लिए उन्हें दो दिन की मोहलत दी गई है। विधायकों को कारण बताओ नोटिस का जवाब 17 जुलाई तक देना है। हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बौखलाए सचिन पार्टी में वापस लौटने की दुविधा से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। इसीलिए कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं जाने को लेकर विधानसभा स्पीकर के जरिये आए नोटिस को लेकर पायलट अपने कानूनी सलाहकारों से मशविरा किया।

भाजपा में नहीं जाने और कांग्रेस का सदस्य होने का बयान जारी किया

पायलट ने दिल्ली में गहलोत के खिलाफ तीर चलाए तो जयपुर में गहलोत ने पायलट की धज्जियां उड़ाई। कांग्रेस की ओर से नोटिस के तौर पर अनुशासन का डंडा चलाए जाने से विधायकों की सदस्यता पर मंडराते खतरों को देखते हुए ही अपने कानूनी सलाहकारों की राय के अनुरूप सचिन पायलट ने बुधवार सुबह भाजपा में नहीं जाने और कांग्रेस का सदस्य होने का बयान जारी किया। राजस्थान के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडेय ने तब ट्वीट के जरिये सचिन को भाजपा के मायाजाल से बाहर आने की सलाह देते हुए कहा कि वे ऐसा करते हैं तो कांग्रेस के दरवाजे उनके लिए खुले हैं।

सचिन पायलट के बयान का सुरजेवाला ने काट पेश किया   

पार्टी सूत्रों ने कहा कि कानूनी नोटिस पर भाजपा में नहीं जाने के पायलट के बयान का असर कमजोर न पड़े इसीलिए सोच-विचार कर दुबारा शाम को जयपुर में रणदीप सुरजेवाला की ओर से बयान जारी किया गया। इसमें सुरजेवाला ने साफ तौर पर सचिन पायलट के बयान की काट करते हुए जवाबी दांव चलते हुए राजस्थान की सरकार गिराने की भाजपा की साजिश में उनके हिस्सेदार होने का बयान देने से गुरेज नहीं किया।

इसके लिए सुरजेवाला ने मानसेर के पांच सितारा होटल में भाजपा की हरियाणा सरकार की ओर से कराई गई मेजबानी और विधायकों को वहां कड़ी सुरक्षा में रखे जाने का उदाहरण भी दिया। साथ ही विधायकों पर दबाव बढ़ाने के लिए यह भी कहा कि यदि सचिन भाजपा में नहीं जा रहे तो फिर उन्हें भाजपा की खट्टर सरकार की मेजबानी छोड़ कांग्रेस विधायकों समेत वापस अपने घर लौट आना चाहिए।

कानूनी सलाहकारों और विधायकों से पायलट कर रहे गंभीर मंत्रणा 

सुरजेवाला का यह दांव स्पष्ट रूप से पायलट और उनके विधायकों को मौका नहीं दिए जाने की किसी तरह की कानूनी गुंजाइश का रास्ता बंद करना है। कांग्रेस के इस सियासी दांव को पढ़ते ही पायलट भी अपने कानूनी सलाहकारों और विधायकों से आगे की रणनीति पर गंभीर मंत्रणा कर रहे हैं। वैसे इस लड़ाई में मुख्यमंत्री गहलोत राजनीतिक और कानूनी दोनों मोर्चे पर पायलट पर भारी पडे़ हैं और कांग्रेस नेतृत्व भी उनके साथ मजबूती से खड़ा है।

पायलट के पास इतने विधायक नहीं कि वे गहलोत सरकार को गिरा सकें, ऐसे में वे अपने समर्थकों से नई पार्टी बनाने के विकल्पों पर गहन मंथन कर रहे हैं। इसमें भी पायलट की चुनौती इस लिहाज से बढ़ गई है कि विधायकी जाने के डर से उनके कैंप के कुछ विधायक वापस गहलोत के खेमे में लौटने का संदेश भेज रहे हैं। ऐसे में अगर दर्जन भर विधायक भी अपनी कुर्बानी देने के लिए तैयार नहीं हुए तब पायलट को न चाहते हुए भी कांग्रेस में लौटने का जहर पीने का विकल्प अपनाना पड़ सकता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890