Cover

वार्ता आगे बढ़ाने के लिए सुरक्षा बलों की रिहाई पर फैसला जरूरी – अशरफ गनी

काबुल। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने कहा कि तालिबान के साथ शांति प्रक्रिया तब तक आगे नहीं बढ़ पाएगी जब तक कि उसके कैद में मौजूद सुरक्षा बलों के जवानों की रिहाई पर कोई फैसला नहीं हो जाता। वार्ता शुरू करने के लिए कैदियों की रिहाई तालिबान की पूर्व शर्त में से एक है। तालिबान के साथ अमेरिकी शांति समझौते के अनुसार, अफगान सरकार के कैद में 5,000 तालिबानी कैदियों और तालिबान द्वारा पकड़े गए 1000 सुरक्षा बलों को शांति वार्ता शुरू करने से पहले रिहा करना होगा।

समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने के बाद फरवरी से अब तक सरकार द्वारा लगभग 4,200 तालिबान कैदियों को रिहा किया गया है। तालिबान ने अब तक 850 सुरक्षा बलों को रिहा कर दिया है। गनी ने गुरुवार को गजनी प्रांत के दौरे पर एक भाषण के दौरान कहा, ‘तालिबान के कैदियों को रिहा करने की प्रक्रिया आगे बढ़ रही है, क्योंकि मैं चाहता हूं कि अफगान सुरक्षा और रक्षा बलों के हर कैदी का भाग्य स्पष्ट हो। शांति प्रक्रिया तब तक नहीं चलेगी, जब तक हमारे योद्धाओं का भाग्य स्पष्ट नहीं होता।’

महिलाएं अपनी अधिकारों को लेकर चिंतित- नसीमी

अपने भाषण के एक अन्य हिस्से में, राष्ट्रपति गनी ने कहा कि अफगानिस्तान के लोग कभी भी प्रजातंत्र पर तालिबान को वर्चस्व नहीं देंगे और तालिबान को पता होना चाहिए कि लोग ही इसे लेकर अंतिम निर्णय लेंगे। अफगानिस्तान के कंजर्वेटिव फ्रेंड्स की चेयरपर्सन शबनम नसीमी ने कहा कि महिलाएं अपनी अधिकारों को लेकर चिंतित हैं, उन्हें डर है कि शांति वार्ता में इसका बलिदान हो जाएगा।

शांति वार्ता कब शुरू होगी यह स्पष्ट नहीं

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार तालिबान के करीबी सूत्रों ने कहा कि यदि कैदियों को रिहा करने की प्रक्रिया पूरी नहीं हुई, तो देश में हिंसा बढ़ेगी। अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि शांति वार्ता कब शुरू होगी। संयुक्त राष्ट्र ने पहले कहा चुका है कि वार्ता जुलाई में दोहा में शुरू होगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890