Cover

जलवायु परिवर्तन पर बने नए सलाहकार समूह में युवा भारतीय को मिली जगह

संयुक्त राष्ट्र। भारत की एक जलवायु कार्यकर्ता को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने अपने नए सलाहकार समूह में शामिल करने के लिए नामित किया है। इस समूह में वह युवा नेता शामिल हैं, जो बिगड़ते जलवायु संकट से निपटने के लिए समाधान और दृष्टिकोण उपलब्ध कराएंगे।

अर्चना सोरेंग विश्व के उन छह अन्य युवा जलवायु नेताओं के साथ शामिल होंगी जिन्हें गुतेरस ने जलवायु परिवर्तन पर युवा सलाहकार समूह के लिए नामित किया है। संयुक्त राष्ट्र ने सोमवार को एक बयान में कहा कि सोरेंग वकालत एवं अनुसंधान में अनुभवी हैं और वह स्वदेशी समुदायों पारंपरिक ज्ञान के दस्तावेजीकरण, संरक्षण और प्रोत्साहन के लिए काम कर रही हैं।

सोरेंग ने कहा, ‘हमारे पूर्वज अपने पारंपरिक ज्ञान एवं प्रथाओं से युगों से जंगल एवं प्रकृति को बचा रहे हैं। अब हमारी बारी है कि हम जलवायु संकट से निपटने में अग्रिम मोर्चे पर काम करें। अर्चना ने टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज, मुंबई से नियामक प्रशासन (रेगुलेटरी गर्वनेंस) की पढ़ाई की है। वह संस्थान के छात्र संघ की पूर्व अध्यक्ष भी रही हैं। 18 से 28 वर्ष के युवा कार्यकर्ता संयुक्त राष्ट्र प्रमुख को बिगड़ते जलवायु संकट से निपटने के लिए वैश्विक कार्य एवं लक्ष्य को गति देने के लिए नियमित रूप से सलाह देंगे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.