Cover

रक्षाबंधन पर कोरोना का साया: जेल में बंद भाइयों को राखी नहीं बांध पाएंगी बहनें

उन्नाव: कोरोना महामारी से सबकुछ प्रभावित हो रहा है। अब भाई-बहन के पवित्र रिश्ते भी इसकी चपेट में आ गए हैं। उन्नाव डीजी जेल आनंद कुमार ने आदेश जारी किया है। जिसमें उन्होंने फैसला लिया है कि कोरोना के कारण इस बार बहनें जेल में बंद अपने भाइयों की कलाई पर राखी नहीं बांध सकेंगी।

बता दें कि उन्नाव में रक्षा बंधन पर्व पर जेल में निरुद्ध बंदी व कैदी भाइयों को उनकी बहनें राखी बांधने आती हैं। हर साल रक्षा बंधन पर जेल के भीतर होने वाला आयोजन इसबार नहीं होगा।

कैदियों तक पहुंचा दी जाएगी राखी: जेल अधीक्षक
जेल अधीक्षक ऐ के सिंह ने बताया कि जेल में निरुद्ध बंदी भाइयों को उनकी बहनें राखी, रोचना, चावल एक लिफाफे में रखकर उसपर बंदी का नाम व सामग्री देने वाले परिजन का नाम व पता लिखकर जेल गेट पर बनी कोविड हेल्प डेस्क में जमा करा दें। रक्षा बंधन से 48 घंटे पहले यानी 1 अगस्त को शाम 4 बजे तक लिफाफे में प्राप्त होने वाली राखियों को ही लिया जाएगा। लिफाफों को सैनिटाइज कराने के बाद रक्षाबंधन पर बंदी भाइयों तक पहुंचा दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि लिफाफे के अंदर या अलग से मिठाई या कोई भी खाद्य सामग्री न रखें। बताया कि जेल में इस समय 1115 बंदीं व कैदी हैं। इनमें 59 महिलाएं भी हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.