Cover

RIP Rahat Indori : तब बोले थे राहत- लोगों की मोहब्बत है जो मैं इतनी दूर चला आया

 शहडोल। देश के मशहूर शायर राहत इंदौरी अचानक हमारे बीच से चले गए। कोरोना ने उनको हमारे बीच से छीन लिया लेकिन उनकी यादें शहडोल के लोगों के दिल में ताउम्र बसी रहेंगी। 6 महीने पहले 29 जनवरी को शायर राहत इंदौरी शहडोल के धनपुरी में आयोजित एक कवि सम्मेलन में शरीक होने के लिए आए थे ।

उस दौरान उनकी तबीयत बहुत अच्छी नहीं थी लेकिन इसके बावजूद उन्होंने यहां आकर अपने चाहने वालों को भरपूर शेरो शायरी की सौगात दी थी।

झांसी के शायर अर्जुन चांद ने इस संबंध में बताया कि धनपुरी में आयोजित कवि सम्मेलन में मैंने उनके साथ मंच साझा किया बातों ही बातों में राहत साहब ने मुझसे कहा कि अर्जुन मेरी तबीयत अच्छी नहीं लेकिन फिर भी मैं अपने चाहने वालों की मोहब्बत के चलते इतनी दूर चल कर आया हूं ।

उल्लेखनीय है कि इंदौर से शहडोल तकरीबन 15 घंटे का सफर है। इस लंबे सफर मैं थके होने के बावजूद राहत इंदौरी ने अपने चाहने वालों को जमकर शेर शायरी सुनाई। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 के तहत धनपुरी नगरपालिका की ओर से कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया था ।राहत इंदौरी के हर शेर पर तालियां बजती थी। आज वह हमारे बीच नहीं लेकिन शहडोल के चाहने वाले उनकी यादों को हमेशा दिल में बसा कर रखेंगे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890