Cover

जबरदस्त गिरावट से सोना वायदा 50,000 के स्तर से नीचे, चांदी में भी आई हजारों रुपये की मंदी

नई दिल्ली। घरेलू वायदा बाजार में बुधवार सुबह सोने-चांदी की कीमतों में जबरदस्त गिरावट देखने को मिली है। एमसीएक्स एक्सचेंज पर बुधवार सुबह 10 बजकर 01 मिनट पर पांच अक्टूबर 2020 के सोने का वायदा भाव 1,973 रुपये की जबरदस्त गिरावट के साथ 49,956 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेंड कर रहा था। इसके अलावा चार दिसंबर 2020 के सोने की वायदा कीमत की बात करें, तो इस समय यह 1,920 रुपये की भारी गिरावट के साथ 50,207 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेंड कर रहा था। वैश्विक स्तर पर भी बुधवार सुबह सोने के वायदा कीमत में जबरदस्त गिरावट देखने को मिली।

घरेलू वायदा बाजार में चांदी की कीमतों में भी बुधवार सुबह जबरदस्त गिरावट देखी गई है। एमसीएक्स पर चार सितंबर 2020 की चांदी की वायदा कीमत बुधवार सुबह 9 बजकर 59 मिनट पर 6,024 रुपये की जबरदस्त गिरावट के साथ 60,910 रुपये प्रति किलोग्राम पर ट्रेंड कर रही थी। इसके अलावा चार दिसंबर 2020 की चांदी का वायदा भाव बुधवार सुबह 10 बजकर 1 मिनट पर 6,262 रुपये की भारी गिरावट के साथ 63,325 रुपये प्रति किलोग्राम पर ट्रेंड कर रहा था।

सोने के वैश्विक भाव में भी जबरदस्त गिरावट

सोने की वैश्विक कीमतों में भी बुधवार सुबह जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई है। ब्लूमबर्ग के अनुसार, बुधवार सुबह कॉमेक्स पर सोने का वायदा भाव 2.75 फीसद या 53.50 डॉलर की जबरदस्त गिरावट के साथ 18,92.80 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड करता दिखा। इसके अलावा सोने का वैश्विक हाजिर भाव इस समय 1.81 फीसद या 34.65 डॉलर की गिरावट के साथ 1,877.24 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड करता दिखा।

वैश्विक चांदी की कीमतें भी टूटी

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चांदी की कीमतों में भी बुधवार को भारी गिरावट दर्ज की गई है। ब्लूमबर्ग के अनुसार, कॉमेक्स पर बुधवार सुबह चांदी का वायदा भाव 6.75 फीसद या 1.76 डॉलर की गिरावट के साथ 24.29 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड करता दिखाई दिया। वहीं, चांदी का वैश्विक हाजिर भाव इस समय 3.21 फीसद या 0.79 डॉलर की गिरावट के साथ 24 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड करता दिखा।

जानिए क्या होता है वायदा भाव

सोने का कारोबार दो तरह से होता है। एक वायदा बाजार में और दूसरा हाजिर बाजार में। वायदा कारोबार कमोडिटी एक्सचेंज पर होता है। वायदा कारोबार में वस्तु को डिजिटल माध्यम से खरीदा और बेचा जाता है। वायदा बाजार में वस्तु के पुराने और नए भावों के आधार पर भविष्य की कीमतों में सौदे होते हैं। इस बाजार में एक तय तारीख तक के लिए सौदे होते हैं। वायदा बाजार का सीधा असर हाजिर बाजार पर पड़ता है। हाजिर बाजार और वायदा बाजार में वस्तु की कीमत में कोई बड़ा अंतर नहीं होता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890