Cover

शान से जिए और उसी शान से चले गए राहत इंदौरी, डॉक्टरों की गाइड लाइन के अनुसार हुए सुुपुर्द ए खाक

इंदौर: उर्दू अदब के लिए पूरी दुनिया में जाना जाने वाला इंदौर का वो नाम जिसे आप और दुनिया राहत इन्दोरी के नाम से जानते थे, दुनिया से जाने के बाद भी उस अजीम फनकार ने अपनी मौत के बाद भी अदब को सामने रखा, और डॉक्टर राहत इंदौरी की नमाजे जनाजा भी कोविड प्रोटोकोल के तहत अदा की गई।

डॉक्टर राहत इंदौरी जब दुनिया से रुखसत हुए तो कोरोना महामारी पूरे जोर पर थी, और ऐसे में डॉक्टर साहब का दुनिया से जाना उनके चाहने वालों को अपने से दूर भी रखना और मजहबी मामलात पूरे करना ये सब हुआ। शासन की गाइड लाइन का पूरा पूरा ख्याल रखते हुए नमाजे जनांजा पढ़ी गई, वो भी शारीरिक दूरी बनाकर और फिर राहत साहब के पार्थिव शरीर को कब्रिस्तान में सुपुर्द ए खाक किया गया। राहत इंदौरी खुद दुनिया से चले गए लेकिन अदब का साथ मौत के बाद भी ना खुद भूले और ना ही परिवार को भूलने दिया।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890