Cover

भारत और नेपाल के बीच आज अहम बैठक, मतभेद दूर करने की होगी कोशिश; कई मुद्दों पर चर्चा

काठमांडू। भारत और नेपाल के बीच तल्खियों को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच आज एक अहम बैठक होने जा रही है। पिछले दिनों, भारत और नेपाल के बीच कई मुद्दों पर मतभेद के बाद यह बैठक अहम मानी जा रही है। नेपाल के साथ रिश्तों की फिर से पटरी पर लाने और नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली की तल्खी को दूर करने की कोशिश विदेश मंत्रालय ने विभिन्न स्तरों पर शुरु कर दी है।

इसी कड़ी में आज भारत और नेपाल के विदेश सचिवों के बीच एक बैठक आयोजित होनी है। इसमें भारत की तरफ से वहां चलाई जा रही विकास परियोजनाओं के अलावा अन्य द्विपक्षीय मुद्दों पर भी बात होनी है। आज नेपाल में भारत के राजदूत विनय मोहन क्वात्रा नेपाल के विदेश सचिव शंकर दास बैरागी के साथ बातचीत करेंगे। वैसे तो यह मुलाकात आधिकारिक तौर पर भारत की मदद से नेपाल में चलाये जा रहे विकास परियोजनाओं के संदर्भ में है, लेकिन इस मुलाकात में द्विपक्षीय सहयोग के दूसरे मुद्दों पर भी बात होगी।

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, आज भारत और नेपाल के बीच, नेपाल में चल रही परियोजनाओं की प्रगति का जायजा लेने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक भी आयोजित की जाएगी। इस बैठक में नेपाल में चल रही परियोजनाओं की प्रगति का जायजा लिया जाएगा।

नेपाल की तरफ से भारत के तीन हिस्सों को अपने भौगोलिक क्षेत्र(मानचित्र) में शामिल करने संबंधी फैसले के बाद यह पहला मौका होगा जब दोनों देशों के बीच विदेश मंत्रालय स्तर की वार्ता होगी। विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने बताया है कि द्विपक्षीय रिश्तों की समीक्षा को लेकर बैठक आयोजित होगी, जिसमें विकास कार्यो की प्रगति का लेखा जोखा लिया जाएगा। यह बैठक साल 2016 से हमेशा एक निश्चित अंतराल पर हो रही है।

मानचित्र विवाद के बाद पहली बार शीर्ष स्तरीय वार्ता

15 अगस्त को लाल किले की प्राचीर से पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में नेबरहुड फ‌र्स्ट नीति का विस्तार करने के संकेत दिए। इसके बाद नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टेलीफोन करके आजादी की वर्षगांठ की बधाई दी नेपाल ने जब से अपना राजनीतिक मानचित्र बदलकर भारत के तीन हिस्सों पर अपना दावा पेश किया है उसके बाद से यह दोनों देशों के बीच सबसे उच्चस्तरीय बातचीत है।

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली की तरफ से किए गए फोन का यह मतलब भी निकाला जा रहा है कि वह भारत को लेकर अपने रुख में बदलाव कर सकते हैं। ओली न सिर्फ नेपाल के नए राजनीतिक नक्शे को लेकर बल्कि हाल ही में भगवान राम के जन्मस्थान के विषय में विवादित बयान दे चुके हैं। पूर्व में भी वह कई बार भारत के बजाय चीन के निकट जाने की बात करते रहे हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890