Cover

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ से पहले दो और सीएम को ललकार चुके बाहुबली विजय मिश्र

भदोही। विधायक विजय मिश्र योगी आदित्यनाथ के पहले पूर्व मुख्यमंत्री मायावती और अखिलेश यादव को भी ललकार चुके हैं। बसपा शासन में विजय मिश्र को मेरठ जेल में तन्हाई में रखा गया था। उस समय वह मायावती को चुनौती देकर सपा से ताल ठोंकी थी। जेल में बंद होने के बाद भी 35,000 से अधिक मतों से चुनाव जीत गए थे। टिकट कटने के बाद बड़ी संख्या में समर्थकों संग बैठक कर वह पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भी ललकारे थे।

भदोही उप चुनाव में बसपा की करारी हार के बाद विधायक विजय मिश्र पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के निशाने पर आ गए थे। वर्ष 2009 में उनके ऊपर शिकंजा कस दिया गया और वह फरार हो गए। दिल्ली में समर्पण करने के बाद वह मेरठ जेल में रखे गए थे। वर्ष 2012 विधानसभा चुनाव वह जेल में रह कर लड़े थे। चुनाव होने के बाद सपा की सरकार बनते ही वह नैनी जेल में पहुंच गए। बीच में जमानत होने पर रिहा हो गए। पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह की करीबी होने के कारण सपा शासन में उनकी तूती बोलती थी। विधानसभा चुनाव 2017 में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन्हे सपा का बाहर का रास्ता दिखाया तो वह उन्हें भी चुनौती देकर निषाद पार्टी से ताल ठोंक दी

विधायक के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री मायावती, अखिलेश यादव के अलावा तत्कालीन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी सभा कर जनता से हराने की अपील कर चुके थे लेकिन उनकी एक नहीं चली। लगातार चौथी बार ज्ञानपुर विधानसभा से निर्वाचित हो गए। अभी तक जिले के ज्ञानपुर सीट से लगातार दो बार भी कोई विधायक नहीं बन सका है। मध्यप्रदेश के आगर मालवा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को प्रदेश से हटाने का एलान कर दिया है। इसको लेकर सियासी गलियारों में तरह-तरह के कयासों का दौर जारी है।

विधायक के करीबियों के घर पर पुलिस की दबिश

विधायक विजय मिश्र को जेल जाने के बाद अब उनके करीबियों और समर्थक पुलिस के निशाने पर हैं। गोपीगंज पुलिस करीबियों के घर रात में दबिश दे रही है। इससे उनके परिवार के लोग दहशत में हैं। परिजनों का कहना है कि पुलिस रात में दरवाजा खटखटा रही है और धमकी दे रही है। गोपीगंज कोतवाली में विधायक विजय मिश्र के रिश्तेदार कृष्णमोहन तिवारी ने भवन कब्जा, फर्म हड़पने और जबरिया चेक पर हस्ताक्षर कराने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। मामले में विधायक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। विधायक के समर्थन में बड़ी संख्या में समर्थक और वाहनों का काफिला शामिल हुआ था। पुलिस विधायक के करीबियों और समर्थकों को निशाना बना रही है। गोपीगंज पुलिस बिहरोजपुर गांव में पहुंचकर विधायक के चालक के घर दबिश दी थी। परिजनों का कहना है कि रात-रात पुलिस परेशान कर रही है। कार्रवाई के भय से अन्य समर्थक भी घर छोड़कर इधर-उधर ठिकाना खोज रहे हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890