Cover

जीतू पटवारी का सिंधिया पर तंज, अगर टाइगर जिंदा है तो ग्वालियर और चंबल में क्यों जनसेवा नहीं कर रहे

भोपाल: कांग्रेस नेता जीतू पटवारी ने भाजपा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा है कि ‘टाइगर जिंदा है’ तो पिछले पांच महीनों में अब तक ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में जनसेवा के लिये क्यों नहीं गये। पटवारी ने अतिथि शिक्षकों के मुद्दे और किसानों के कर्ज माफी के मुद्दे पर भी सिंधिया की चुप्पी पर सवाल उठाया। पटवारी ने प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पत्रकार वार्ता में सिंधिया की सोमवार को इंदौर-उज्जैन यात्रा को लेकर प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘उन्होने एक दिन कहा कि टाइगर अभी जिंदा है, तो पिछले पांच महीनों में आज तक ग्वालियर चंबल में जनसेवा के लिए टाइगर नहीं गया और जंगलराज में आज आए है इंदौर-उज्जैन के दौरे पर।’

पटवारी ने कहा कि कांग्रेस सरकार गिराने के बाद बीजेपी में शामिल होते समय सिंधिया ने आत्मसम्मान की राजनीति करने और जनसेवा का प्रमुख लक्ष्य होने की बात कही थी।वह अगर सम्मान के लिये भाजपा में गये थे, तो जब वह कांग्रेस पार्टी में थे तो लोग उनके दर पर जाते थे, अब भाजपा में वह लोगों के दर-दर जा रहे है। इंदौर-उज्जैन में लोगों के दर-दर उनको जाना पड़ रहा है अगर यह सम्मान की बात है तो विचार बनता है।’

जीतू पटवारी ने कहा कि सिंधिया ने अतिथि शिक्षकों के लिये लड़ाई लड़ने के लिये सड़क पर उतरने की बात कही थी। लेकिन अब कांग्रेस की सरकार गिराने के बाद उनके मुंह से अतिथि शिक्षकों के लिए एक शब्द् नहीं निकलता है। प्रदेश में सवा से डेढ़ लाख अतिथि शिक्षक, विद्वानों के परिवार प्रभावित हो रहे हैं, लेकिन सरकार की कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। ‘मैं सिंधिया से आग्रह करना चाहता हूं, प्रार्थना करना चाहता हूं कि उन अतिथि शिक्षक और अतिथि विद्वानों के लिए आप सड़क पर आएं। आप कम से कम एक बार तो मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिख देते कि इनका क्या कर रहे हैं।’

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.