Cover

मध्‍य प्रदेश की नौकरियों में बाहरियों को कैसे रोकें, शिवराज सरकार तलाश रही है कानूनी रास्ता

भोपाल। मध्य प्रदेश के युवाओं को ही प्रदेश की सरकारी नौकरियां में मौका मिले, इसके लिए सरकार कानूनी रास्ता तलाश रही है। इसमें यह भी देखा जा रहा है कि किस तरह दूसरे राज्यों (बाहरी) के युवाओं को यहां नौकरी पाने से रोका जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के बाद सामान्य प्रशासन और विधि विभाग में बैठकों का दौर शुरू हो गया है। महाधिवक्ता से भी राय ली जाएगी। माना जा रहा है कि पूर्व के अनुभवों को देखते हुए तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों के लिए इस तरह के प्रावधान किए जा सकते हैं। कुछ राज्यों में ऐसी व्यवस्था है।

अन्‍य राज्‍यों से जुटाई जा रही जानकारी

सामान्य प्रशासन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश के युवाओं को ही राज्य में सरकारी नौकरी मिले, इसके लिए सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। अन्य राज्यों में इससे संबंधित प्रावधानों की अधिकृत जानकारी हासिल जा रही है। साथ ही यह भी देखा जा रहा है कि इसमें किसी तरह की कानूनी अड़चन आ सकती है क्या।

सभी पहलुओं पर होगा विचार

दरअसल, मध्य प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के हितों को सुरक्षित रखने के लिए जब अधिकतम आयु सीमा में संशोधन किया गया था, तब हाई कोर्ट ने उसे संविधान की मूलभावना के खिलाफ बताया था। इसके बाद सरकार को नियम बदलने पड़े थे। इस तरह की स्थितियां न बनें, इसलिए सभी पहलुओं का परीक्षण करने के बाद ही कानूनी प्रावधान करते हुए नियम बनाए जाएंगे। विभाग के अपर मुख्य सचिव विनोद कुमार का कहना है कि अभी परीक्षण किया जा रहा है। सभी दृष्टिकोण से चीजों को देखने के बाद सरकार के स्तर से नीति व नियम तय होंगे।

रोजगार कार्यालय में पंजीयन का किया था प्रावधान

मध्‍य प्रदेश के सामान्य प्रशासन विभाग ने चार जुलाई 2019 को अधिकतम आयु सीमा में संशोधन कर यह प्रावधान कर दिया था कि सीधी भर्ती के लिए आवेदक का मध्य प्रदेश के रोजगार कार्यालय में पंजीयन होना चाहिए। हालांकि इसे बाद में हटा लिया गया।

किन राज्यों में क्या प्रावधान

सूत्रों के अनुसारपंजाब सहित कुछ अन्य राज्यों में रोजगार कार्यालय में पंजीयन होने का प्रावधान है। इसी तरह हिमाचल प्रदेश में तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों के लिए आठवीं और दसवीं का राज्य से उत्तीर्ण होना अनिवार्य है। पंजाब ने दसवीं कक्षा में पंजाबी भाषा का ज्ञान होना अनिवार्य किया है। मध्य प्रदेश में भी राज्य से दसवीं और बारहवीं उत्तीर्ण होना अनिवार्य किया जा सकता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890