Cover

पांच महीने में एक करोड़ 78 लाख ट्रेन टिकट हुए रद, रेलवे को भयंकर नुकसान

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना महामारी के कारण लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। इस बीच रेल सफर से जुड़ी एक खबर आ रही है। कोरोना वायरस महामारी के कारण रेलवे ने इस साल मार्च से लेकर अब तक 1 करोड़ 78 लाख से अधिक टिकट रद किए हैं। इस दौरान रेलवे ने  2,727 करोड़ रुपये की राशि वापस की है। ये जानकारी रेलवे की ओर से एक आरटीआई के जवाब में दी गई है। आरटीआई में पाया गया है कि रेलवे जिसने 25 मार्च से अपनी यात्री ट्रेन सेवाओं को निलंबित कर दिया था, उसने पांच माह की अवधि के दौरान 1 करोड़ 78 लाख 70 लाख 644 टिकट रद किए।

पीटीआई ने पहले बताया है कि संभवत: पहली बार रेलवे ने टिकट बुकिंग से जितना कमाया है उससे अधिक वापस कर दिया है। इस कारण रेलवे ने कोरोना महामारी के कारण 2020-21 की पहली तिमाही में 1,066 करोड़ रुपये का नकारात्मक यात्री खंड राजस्व दर्ज किया है। वहीं पिछले साल की बात करें तो रेलवे ने 1 अप्रैल से 11 अगस्त की अवधि में 3,660.08 करोड़ रुपये रिफंड किए थे। इस दौरान रेलने ने 17,309.1 करोड़ रुपये भी कमाए। रेलवे के इतिहास में यह पहला मौका है, जब टिकट रिफंड की गई राशि, कमाई हुई राशि से ज्यादा है।

एक अधिकारी ने बताया कि रेल सेवाओं के निलंबन के कारण अप्रैल, मई और जून में यात्रा के लिए बुक किए गए टिकटों को रिफंड की पेशकश की गई थी, जबकि इन तीन महीनों के दौरान कम टिकट बुक किए गए थे। इस वित्तीय वर्ष के पहले तीन महीने जब रेलवे को अपनी सभी नियमित यात्री सेवाओं को निलंबित करना पड़ा उस दौरान राष्ट्रीय रेलवे का राजस्व नकारात्मक था। अप्रैल में 531.12 करोड़ रुपये, मई में 145.24 करोड़ रुपये और जून में 390.6 रुपये (सभी नकारात्मक में)। पिछले वित्त वर्ष में इसने अप्रैल में 4,345 करोड़ रुपये, मई में 4,463 करोड़ रुपये और जून में 4,589 करोड़ रुपये कमाए थे। फिलहाल रेलवे ने अपनी सभी नियमित यात्री सेवाओं को अनिश्चित काल के लिए रद कर दिया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.