Cover

ऊर्जा मंत्री के भाई पर 95 लाख का बकाया, रसूख के आगे कनेक्शन नहीं काट पा रही कंपनी

भोपाल। मध्य प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के भाई बिजली कंपनी का बकाया भुगतान नहीं कर रहे हैं। उनके स्टोन क्रेशर पर 95.83 लाख रुपये बकाया हो गए हैं। इसके बाद भी वह एक महीने में सात लाख 74 हजार रुपये से अधिक की बिजली इस्तेमाल कर रहे हैं। चंद हजार रुपये बकाया होने पर आम लोगों का कनेक्शन काटने वाले बिजली कंपनी के अधिकारी उनसे वसूली करने के बजाय फाइल दबाए हुए हैं। मामले को लेकर मंत्री का कहना है कि मेरे भाई पर बिल बकाया है तो इसमें मेरी क्या गलती है।

ऊर्जा मंत्री तोमर के परिवार का ग्वालियर के बिलौआ में ऋतुराज स्टोन क्रेशर संचालित है। इसे मंत्री के भाई व एक सेवानिवृत्त पुलिस अधिकारी चलाते हैं। 2014 में स्टोन क्रेशर संचालन के लिए हाइटेंशन लाइन का कनेक्शन लिया गया था। शुरुआत में इसका बिल अदा किया गया, लेकिन बाद में बिल चुकाना बंद कर दिया गया। धीरे-धीरे इस क्रेशर पर लाखों रुपये का बिल बकाया हो गया। बिल बकाया होने की वजह से यह क्रेशर सुर्खियों में आ गया। सोशल मीडिया पर भी इनका बिल वायरल हुआ। 20 जून 2020 को पांच लाख 94 हजार रुपये का बिल जमा किया गया। जुलाई में फिर से मीटर की रीडिंग हुई और सात लाख 74 हजार 91 रुपये का बिल जारी हुआ, लेकिन बिल जमा नहीं हुआ। पहले का 88,09,346 रुपये का बिल बकाया था। अब कुल बकाया 95 लाख 83 हजार रुपये पर पहुंच गया है। बिजली बिल में क्रेशर का पंजीकृत कार्यालय 336-तानसेन नगर ग्वालियर दर्शाया गया है।

लोड का भी ज्यादा इस्तेमाल

क्रेशर का 200 केवीए का कनेक्शन है, लेकिन लोड करीब 350 केवीए तक उपयोग किया जा रहा है। अगर यह क्रेशर बंद हो जाता है तो बिजली कंपनी के लाखों रुपये डूब जाएंगे। सिक्युरिटी राशि बतौर 14 लाख 66 हजार रुपये ही जमा हैं। वैसे यह राशि तीन महीने के बिल के बराबर की जमा होनी चाहिए।

ग्वालियर के उपभोक्ताओं पर 400 करोड़ रुपये बाकी

सरकार ने संबल योजना के तहत ग्वालियर के डिफॉल्टरों के बिल माफ किए थे। इसके तहत करीब 150 करोड़ रुपये के बकाया बिल माफ किए गए थे। माफी के बाद भी लोगों ने बिल नहीं भरे, जिसके चलते बकाया राशि बढ़ती गई और यह आंकड़ा 400 करोड़ के करीब पहुंच गया है।

बिल किस्‍त में जमा करने का आवेदन

महाप्रबंधक ओएंडएम सर्कल ग्वालियर सुनील खरे ने कहा कि क्रेशर संचालकों की ओर से बिजली के बिल को किस्त में जमा करने के लिए आवेदन आया था। किस्त में बिल जमा कराने की कार्रवाई की जा रही है। कोविड-19 की वजह से दफ्तर बंद हैं। रिकॉर्ड देखकर बता सकते हैं कि कितनी किस्त में बिल जमा कराना है।’

ऊर्जा मंत्री बोले- मेरी क्‍या गलती

ऊर्जा मंत्री मध्य प्रदेश शासन प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इस पूरे मामले पर कहा, मेरे भाई पर बिजली बिल बकाया है तो मेरी क्या गलती है? बिल किसी का भी हो, नियम सभी के लिए बराबर है। मैंने बिल को लेकर पता किया था, उसकी चार किस्तें बनी हैं। बिल जमा होना शुरू हो गया है। किस्तों में बिल जमा करने का हर किसी को अधिकार है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890