Cover

12 लोगों पर गिरी राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून की गाज, लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता एंडी ली भी शामिल

टोक्‍यो। चीन के अधिकारियों ने एक लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता सहित 12 लोगों को गिरफ्तार किया है। यह सब समुद्र के रास्‍ते गुप्‍त तरीके से ताइवान जा रहे थे। दक्षिणी चीनी प्रांत गुआंगडोंग में तटरक्षक बल का हवाला देते हुए एनएचके वर्ल्ड ने बताया कि संदेह होने पर चीनी अधिकारियों ने इन लोगों को गुआंगडोंग के तट पर रोक लिया। ये सभी एक स्‍पीटबोट पर सवार थे। हांगकांग मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गिरफ्तार किए गए लोगों में एक लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता एंडी ली भी थे।

लोकतंत्र समर्थकों पर आफत, सुरक्षित ठिकानों में ले रहे हैं शरण 

गिरफ्तार किए गए लोगों में ली एग्नेस चाउ और जिमी लाइ भी शामिल हैं। दोनों हांगकांग के लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ताओं में से हैं, जिन्हें 10 अगस्त को राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत गिरफ्तार किया गया था। हांगकांग में राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून लागू होने के बाद कई लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता दूसरे देशों में सुरक्षित ठिकानों की ओर शरण ले रहे है। आशंका व्‍यक्‍त की जा रही है कि ये सभी ताइवान में शरण लेने के मकसद से गुप्‍त यात्रा कर रहे थे।

1 जुलाई का अमल में आया राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून 

हांगकांग में राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून 1 जुलाई से अमल में आ चुका है। इसके चलते हांगकांग में चीन का विरोध बढ़ रहा है। इस कानून के तहत हांगकांग में अब तक सैकड़ों लोकतंत्र समर्थकों को गिरफ्तार किया जा चुका है। ब्रिटेन और अमेरिका सहित करीब दो दर्जन पश्चिमी देशों ने चीन के इस कानून का विरोध किया है, लेकिन ड्रैगन ने इसे अपना आंतरिक मामला कह कर विरोध को खारिज कर दिया। बता दें ब्रिटेन का उपनिवेश रहे हांगकांग को 23 साल पहले चीन को सौंपा गया था। 1 जुलाई को ही 23 साल पूरे हुए। इसी दिन नए राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून को लागू किया गया।

राष्‍ट्रीय सुरक्षा कानून और हांगकांग 

इस कानून के तहत आतंकी गतिविधियों में शामिल और विदेश सुरक्षा बलों के साथ मिलीभगत करने पर आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है। यह कानून हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों के मद्देनजर बनाया गया। नई राष्‍ट्रीय सुरक्षा एजेंसी हांगकांग के स्‍थानीय कानून के दायरे में नहीं होगी। चीन की सरकार के पास हांगकांग में राष्‍ट्रीय सुरक्षा मामलों में बड़ी दखलंदाजी होगी। अधिकार और स्‍वतंत्रता, जिसमें बोलने की स्‍वतंत्रता, प्रेस का प्रकाशन की आजादी भी शामलि है, नए कानून के अनुसार संरिक्षत होंगे। कुछ खास परिवहन-वाहनों और उपकरणों को नुकसान पहुंचाना आतंकवादी कृत माना जाएगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.