Cover

बहुचर्चित हनीट्रैप की आरोपी के साथ जेलर की फोटो वायरल, भोपाल से जेल DIG जांच करने इंदौर पहुंचे

इंदौर: बहू चर्चित हनीट्रैप मामले में जेल में बन्द महिला आरोपी और जेलर की जेल में हुई मुलाकात कि तस्वीरे आम क्या हुईं, इंदौर से भोपाल तक अधिकारियों की सांसे में अचानक तेजी रिकार्ड की गईं। और वायरल हुई तस्वीरों को भोपाल में भी देखा गया। तस्वीरें देखने के बाद अचानक जेल DIG को इंदौर रवाना किया और डी आई जी ने जेल का दौरा कर महिला आरोपी से भी पूछताछ की।

मध्यप्रदेश के बहुचर्चित हनीट्रैप कांड की एक महिला आरोपी की जेलर से बातें करते हुए तस्वीर वायरल हो रही है। मामला बेहद संगीन है लिहाजा जांच के मकसद से भोपाल से आला अधिकारी को तस्दीक के लिए इंदौर आना पड़ा है। दरअसल इंदौर की जिला जेल के उप अधीक्षक के.के.कुलश्रेष्ठ के साथ हनीट्रैप आरोपी श्वेता विजय जैन से बात करते हुए तस्वीर सामने आ गई। मामले की जांच एसआईटी कर रही है और ऐसे में इस तरह की तस्वीर सामने आना कई सवाल खड़े कर रही है। हालांकि जेल मैन्युल के हिसाब से तमाम नियम और कानून की दुहाई इस मामले में दी जा रही है लेकिन अब इंदौर की जिला जेल के जेलर के.के.कुलश्रेष्ठ की श्रेष्ठता पर सवालिया निशान उठ खड़े है। हालांकि जेल में परिंदा भी पर नही मार सकता है ऐसे में जेलर और महिला आरोपी के बतियाते हुई तस्वीर के सामने आने के बाद किसी बड़ी साजिश से इंकार भी नही किया जा सकता है। सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीर ने इतना हड़कम्प मचा दिया कि भोपाल से आनन फानन जेल डीआईजी संजय पांडे को इंदौर पहुंचना पड़ा। हालांकि मामला महिला बंदी से जुड़ा है इसलिए जांच के लिए कल तक का इंतजार खुद जेल डीआईजी को करना पड़ेगा। शाम को इंदौर पहुंचे जेल डीआईजी संजय पांडे ने बताया कि वो अलग-अलग मामलों कि जांच करने इंदौर पहुंचे हैं। वही उन्होंने हनीट्रैप मामले में आरोपी महिला की जेलर के साथ वायरल हुई तस्वीर की जांच की बात को भी नकारा नही है। वही उन्होंने मीडिया से बातचीत कर जेल मेन्यूल के संबंध में तमाम जानकारी भी साझा की। इधर, जिला जेल के उपाधीक्षक के.के. कुलश्रेष्ठ भी तस्वीर के वायरल होने पर हैरानी जताई है लेकिन उन्होंने इस बात को माना है कि किसी की साजिश है। हालांकि जेल मैन्युल साफ कहता है कि कोई महिला बंदी से किसी भी तरह की बातचीत के दौरान जेल की एक महिलाकर्मी का मौजूद होना जरूरी होता है और बस ये ही वजह है कि इस मामले ने इतना तूल पकड़ लिया है।

फिलहाल, सच क्या है ,और क्या वाकई ये कोई साजिश है ये तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा लेकिन इंदौर से वायरल हुई तस्वीर ने तमाम सवाल अब व्यवस्थाओं पर उठा दिए है जिसका जबाव भी व्यवस्था को संचालित करने वालों को ही देना होगा। संजय पांडे जो की डीआईजी जेल है इसलिए उन्हें इस मामले में इंदौर पहुंचाया गया था। ये कोई पहला मामला नहीं जब जेल में बन्द सजायफ्ता या फिर अंडर ट्रायल आरोपियों के साथ जेल अधिकरियों के साथ मामला उजगार हुआ है। खैर मामले में जांच जारी है और जल्द ही महिला से मुलाकात का किस्सा भी खुल कर सामने आएगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890