भारत में इसी महीने शुरू होगा रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-5 का क्लीनिकल ट्रायल

मॉस्को। कोरोना वायरस की रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-5 का क्लीनिकल ट्रायल इस महीने भारत समेत कई देशों में शुरू होगा।

रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-5 का क्लीनिकल ट्रायल 40 हजार लोगों पर

रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष (आरडीआइएफ) के सीईओ किरिल दिमित्रीएव ने बताया कि अमेरिका में 30 हजार लोगों पर एस्ट्राजेनेका वैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल शुरू होने से पहले ही रूस में 26 अगस्त को पंजीकरण के बाद के अध्ययन 40 हजार लोगों पर शुरू हो गए थे।

सऊदी अरब, यूएई, फिलीपींस और ब्राजील में भी होगा क्लीनिकल ट्रायल

किरिल दिमित्रीएव ने कहा कि सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), फिलीपींस, भारत और ब्राजील में क्लीनिकल ट्रायल इस महीने प्रारंभ होंगे। तीसरे चरण के ट्रायल के प्रारंभिक परिणाम अक्टूबर-नवंबर, 2020 में प्रकाशित किए जाएंगे।

कोरोना वायरस की दुनिया की पहली पंजीकृत वैक्सीन

रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय ने 11 अगस्त को अपनी वैक्सीन का पंजीकरण कराया था और यह कोरोना वायरस की दुनिया की पहली पंजीकृत वैक्सीन है।

दिमित्रीएव ने कहा- दुनियाभर की 60 फीसद वैक्सीन का उत्पादन भारत में होता है

दिमित्रीएव ने कहा कि भारत ऐतिहासिक रूप से रूस का अहम साझीदार रहा है। दुनियाभर की 60 फीसद वैक्सीन का उत्पादन भारत में ही होता है। रूस भारतीय साझीदारों की बेहद संतुलित सोच का स्वागत करता है जिनका शुरुआत से ही सवाल था कि वैक्सीन कैसे काम करती है। उन्होंने वैक्सीन को निशाना बनाने के बजाय इसे समझने की कोशिश की।

स्पुतनिक-5 के क्लीनिकल ट्रायल में वायरस को निष्क्रिय करने वाले एंटीबॉडीज 1.5 गुना ज्यादा मिले

आरडीआइएफ के मुताबिक, ‘क्लीनिकल ट्रायल के सौ फीसद प्रतिभागियों में स्पुतनिक-5 ने स्थायी ह्यूमोरल और सेल्युलर प्रतिरक्षा तंत्र उत्पन्न किया। जिन स्वयंसेवकों को स्पुतनिक-5 वैक्सीन दी गई, उनमें वायरस को निष्क्रिय करने वाले एंटीबॉडीज उन मरीजों से 1.4 से 1.5 गुना ज्यादा मिले जो कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं।’

चीन ने पहली बार प्रदर्शित की कोरोना वैक्सीन

चीन ने इस हफ्ते बीजिंग व्यापार मेले में अपनी स्वेदशी कोरोना वैक्सीन को पहली बार प्रदर्शित किया। इन्हें चीनी कंपनियों साइनोवैक बायोटेक और साइनोफार्म ने तैयार किया है। इनमें से कोई भी अभी बाजार में नहीं आई है, लेकिन निर्माताओं को उम्मीद है कि इस साल के आखिर तक तीसरे चरण के ट्रायल पूरे होने पर उन्हें इसकी स्वीकृति मिल जाएगी। साइनोवैक के प्रतिनिधि ने बताया कि कंपनी ने वैक्सीन फैक्ट्री का निर्माण कर लिया है। वहां प्रतिवर्ष 30 करोड़ डोज का उत्पादन किया जा सकता है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें-8418855555