Cover

प्रशांत भूषण बोले, जुर्माना अदा करने का अर्थ सुप्रीम कोर्ट का फैसला स्वीकार करना नहीं, दाखिल की पुनर्विचार याचिका

नई दिल्ली। कार्यकर्ता एवं अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने सोमवार को कहा कि अवमानना मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा लगाए गए एक रुपये के सांकेतिक जुर्माने को अदा करने का मतलब यह नहीं है कि उन्होंने शीर्ष अदालत का फैसला स्वीकार कर लिया है। उन्होंने बताया कि शीर्ष अदालत के 14 अगस्त के फैसले के खिलाफ उन्होंने पुनर्विचार याचिका दाखिल की है। सजा पर 31 अगस्त को सुनाए गए फैसले पर अलग से पुनर्विचार याचिका दाखिल करेंगे।

अपने दो ट्वीट्स को लेकर अवमानना के दोषी ठहराए गए भूषण ने सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री में जुर्माना जमा किया। उन्होंने बताया कि जुर्माने का भुगतान करने के लिए देश के कई हिस्सों से योगदान मिला है। इस योगदान से एक ‘सत्य कोष’ (ट्रुथ फंड) सृजित किया जाएगा ताकि असहमति जताने पर अभियोजन का सामना करने वालों को कानूनी मदद उपलब्ध कराई जा सके। मीडिया से बातचीत में भूषण ने कहा कि उन्होंने एक रिट याचिका दाखिल की है जिसमें अवमानना के दोषी के लिए अपील प्रक्रिया बनाने की मांग की गई है।

उन्होंने कहा कि सरकार असहमति की आवाजों को खामोश करने के सभी तरीके अपना रही है। इस क्रम में उन्होंने दिल्ली दंगों में कथित भूमिका के लिए जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद की गिरफ्तारी का जिक्र भी किया। याद दिला दें कि जस्टिस (अब सेवानिवृत्त) अरुण मिश्रा की पीठ ने भूषण को 15 सितंबर तक जुर्माना अदा करने का निर्देश दिया था। ऐसा नहीं करने पर उन्हें तीन महीने की सजा भुगतनी पड़ती और उनके तीन साल तक प्रैक्टिस करने पर रोक लग जाती।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890