Cover

पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाए शहाबुद्दीन, तिहाड़ जेल से नहीं मिली पैरोल

पटनाः पिछले 3 साल से दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो पाए। दरअसल, तिहाड़ जेल ने उन्हें पैरोल देने से इनकार कर दिया है। वहीं इसके पीछे का कारण लंबी कानूनी प्रक्रिया बताया जा रहा है।

जानकारी के अनुसार, शनिवार को सीवान से राजद के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के पिता का निधन हो गया, जिसके चलते उन्होंने तिहाड़ जेल के डीसी के पास पैरोल को लेकर अर्जी लगाई थी। लेकिन उन्हें पैरोल नहीं मिल पाई। बता दें कि शहाबुद्दीन के पिता शेख हसिब्बूल्लाह का शनिवार को निधन हो गया। 85 साल के शेख हसिब्बूल्लाह लगभग 2 महीने से बीमार चल रहे थे, जिन्हें इलाज के लिए पटना के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। इलाज के बाद उन्हें घर ले जाया गया था, जहां उन्होंने अपने पैतृक निवास पर ही अंतिम सांस ली।

जानिए क्यों उम्रकैद की सजा काट रहे शहाबुद्दीन
गौरतलब है कि शहाबुद्दीन दिल्ली की जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं। पटना हाईकोर्ट के 30 अगस्त, 2017 को दिए फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने मुहर लगाई थी। शहाबुद्दीन को ये सजा 2004 में हुए दोहरे कत्ल के मामले में सुनाई गई थी। साल 2004 में शहाबुद्दीन और उसके गुर्गों ने रंगदारी नहीं देने पर सीवान के प्रतापपुर गांव में चंदा बाबू के 2 बेटों सतीश और गिरीश रौशन को तेजाब डालकर जिंदा जला दिया था। इस केस में शहाबुद्दीन सहित 4 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890