Cover

जिंदगी की जंग हारी दलित गैंगरेप पीड़िता, 4 लोगों ने हैवानियत के बाद काट ली थी जीभ

नई दिल्‍ली/हाथरस: जिंदगी की जंग लड़ रही उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के हाथरस (Hathras) की गैंगरेप पीड़िता (Gang Rape Victim)  ने आखिरकार जिंदगी को अलविदा कह दिया। गैंगरेप पीड़िता ने मंगलवार सुबह 3 बजे दिल्ली (Delhi) के सफदरगंज अस्पताल (Safdarganj Hospital)  में  इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इससे पहले आरोपियों ने दलित युवती की गला घोंट कर हत्‍या करने की भी कोशिश की थी। इस दौरान पीड़िता ने खुद को बचाने की जीतोड़ कोशिश की थी। जिस पर आरोपियों ने युवती की जीभ तक काट दी थी।

14 सितंबर को युवती से हुआ था गैंगरेप
बता दें कि बीते 14 सितंबर को थाना चंदपा क्षेत्र के एक गांव में अपनी मां के साथ खेत पर चारा लेने के लिए गई 19 साल की युवती से गांव के ही चार हैवानों ने पहले तो गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। उसके बाद उसे जान से मारने की कोशिश की। युवती के चीखने चिल्लाने से मौके पर ग्रामीणों को आता देख दबंग वहां से फरार हो गए।

गैंगरेप पीड़िता को बचा नहीं सके डॉक्टर
इसके बाद पीड़ित युवती के परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने गंभीर रूप से घायल दलित युवती को अलीगढ़ के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया था। जहां डॉक्टरों ने युवती की गंभीर हालत को दिल्ली एम्स रेफर कर दिया। जिसके बाद युवती को अलीगढ़ से दिल्‍ली सफदरगंज अस्पताल लाया गया। एम्‍स में दलित युवती का इलाज चल रहा था, लेकिन डॉक्‍टर गैंगरेप पीड़िता को बचा नहीं सके।

वेंटिलेटर पर थी गैंगरेप पीड़िता: डॉक्‍टर खान
दिल्‍ली एम्‍स रेफर किए जाने से पहले JNMC के सुपरिंटेंडेंट डॉक्‍टर हैरिस मंजूर खान ने बताया था कि गैंगरेप पीड़िता वेंटिलेटर पर है। अस्‍पताल के प्रवक्‍ता ने बताया था कि विक्टिम के दोनों पैर लकवाग्रस्‍त हो गए थे। इसके अलावा उनका एक हाथ भी आंशिक तौर पर पारालाइज्‍ड हो गया था। पीडिता की गंभीर हालत को देखते हुए परिजनों ने बेहतर इलाज के लिए दिल्‍ली में दिखाने की इच्‍छा व्‍यक्‍त की थी, जिसके बाद गैंगरेप विक्टिम को एम्‍स रेफर कर दिया गया था। हालांकि, उन्‍हें बचाया नहीं जा सका।

दबंगों ने की उन्नाव जैसी जघन्य घटना को दोहराने की बात
हाथरस के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर (Vikram Veer) ने बताया था कि 14 सितंबर को हुए इस सामूहिक दुष्कर्म के मामले में चारों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और थाना प्रभारी चंदपा को निलंबित कर दिया गया है। वहीं, पीड़िता के परिजनों का आरोप है कि गांव में ठाकुर जाति के दबंग लोगों ने उन्नाव जैसी जघन्य घटना को दोहराने की बात करते हुए जान से मारने की धमकी दी थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

आप भी जानें, Congress के वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी ने क्यों कहा- ‘झूठ की खेती’ करती है भाजपा     |     आर्मी चीफ जनरल एमएम नरवणे का दो दिवसीय लखनऊ दौरा आज से, सीतापुर भी जाएंगे     |     यमुना एक्सप्रेस वे पर पलटी पश्चिम बंगाल के यात्रियों से भरी बस, 20 घायल     |     युवती ने घर फोन कर कहा बेहोश हो रही हूं, पुलिस ने चेक किया तो मैसेंजर पर प्रेमी से बात करती मिली     |     लखनऊ में न‍िकाह के तीसरे दिन घर में हाइवोल्‍टेज ड्रामा, गुस्‍साए युवक ने गोमती में लगाई छलांग     |     उत्‍तराखंड में कोरोना की वापसी, बुधवार को आए कोरोना के 110 नए मामले     |     राज्य के शिक्षक संघों को सरकार से आस, शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री से की मुलाकात     |     बीएमपी-दो टैंक से घुप्प अंधेरे में भी नहीं बचेंगे दुश्मन, ऑर्डनेंस फैक्ट्री ने आत्मनिर्भर भारत के तहत विकसित की नाइट साइट     |     रुतबा जमाने के लिए स्‍टोन क्रशर के मालिक ने गांव में की फायरिंग, दहशत में ग्रामीण     |     युवाओं को नागवार गुजरी मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ‘संस्कारी नसीहत’     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890